ये ज़िन्दगी – रबीन्द कुमार साहु

Views: 10
0 0
Read Time:2 Minute, 54 Second

कभी खुशी है
कभी गम है
ये सब हमारे भ्रम है
येही तो हम सबका जिन्दगी है ।
कौन बनता है योगी
कौन बन जाता है
सामाजिक रोगी और
कौन बनता है भोगी
इन सब के साथ
मिलजुल कर रहने का नाम है
ये ज़िन्दगी ।
प्यार, मोहब्बत में जीना
हर किसि की दोस्त बनना और
किसी को दोस्त बनाना
पारिवारिक, सामाजिक
नीति नीयम को मानने का
नाम भी है ये जिन्देगी ।
सब का सुख दुःख में साथ देना
गरीब और मजबूरी
बालों की साथ देना
नाम ये जिन्दगी ।
बहू, बेटीयों की इज्जत करना
दुर्नीति और भ्रष्टाचार की खीलाफ लढना
अनपढ को पढ़ने को मौका देना
क्षेत मजदूरों, श्रमिक भाईयों की साथ देना
हर इंसान को सम्मान करने का नाम
ये ज़िन्दगी ।
सारे बिश्व की भला करना
मानब जाति की सेबा करना
सारे बिश्व को अपना परिवार मानना
बिशव में शान्ति फैलाना और समृद्धि बढ़ाना
इसि सबका नाम है ये ज़िन्दगी ।

रबीन्द कुमार साहु
बिनायकपुर, पिपिलि,पुरी,
ओडिशा
पिन – ७५२१०४
मोबाइल नम्बर – ९४३७३०४६८७

Share this :
Next Post

ଧନ୍ୟରେ ମଣିଷ! - ସୌଭାଗ୍ୟ ବାରିକ

ଧନ୍ୟରେ ମଣିଷ! ଆଗରେ ଆଗରେ ହାତ ମିଳାନ୍ତି ସେ ପଛପଟେ ଖୋଳି ଗାତ l ଆଗରେ କହି ସେ ନିଜର ନିଜର ପଛେ ଦିଏ ବିଶେ ଭାତ ll (ଭାତ କମ ବିଶ ଅଧିକ) ଭାଇ ଭାଇ ବୋଲି ଡାକୁଅଛି ଯିଏ ସୁଖ ବେଳେ ଆଗେ ଠିଆ l ନିଜ ସ୍ୱାର୍ଥ ଯେବେ ଆଗରେ ଆସଇ ଭାଇ ଭୁଲି ଯାଏ କିଆଁ ll ଭଗିନୀ ବୋଲି ତୁ ଯାକୁ ଭାବୁଚୁ […]

Subscribe US Now